Tag Archives: नदी

लघुता

Standard

नदी किनारे गीली रेत पर पड़ा

वोह नन्हा सा कदम्

कितना आनंदित कर जाता हैं

 

ओ़स की छोटी सी बूँद से

रेशम सा कोमल पता

कितना उल्लसित हो जाता हैं

 

दोनों ही लघु रूप मैं

दोनों ही अबोधता मैं

यही लघु रूप

खोजती हूँ सब मैं

चाहे वोह इंसान हो या अश्रु